भग्गूढाना प्राथमिक शाला में पदस्थ शिक्षक पर अनियमितता के आरोप

हटाए जाने की मांग को लेकर ग्रामीणों ने कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

बैतूल। शाहपुर विकासखंड के ग्राम भग्गूढाना में स्थित प्राथमिक शाला में पदस्थ शिक्षक के खिलाफ ग्रामीणों ने अनियमितता के आरोप लगाते हुए कलेक्टर से शिकायत की है। शिकायत आवेदन के माध्यम से शिक्षक को तत्काल प्रभाव से हटाए जाने की मांग की गई। शिकायत कर्ताओं द्वारा आरोप लगाए जा रहे हैं कि शिक्षक वीरेंद्र मिश्रा स्वयं समूह चला रहे हैं, भोजन मेनू के आधार पर विद्यार्थियों को नहीं दिया जा रहा है। इस मामले में शिक्षक से कहा गया तो उनके पुत्र द्वारा अपशब्दों का प्रयोग किया गया।
मामले के तूल पकड़ने के बाद ग्रामीणों ने पंचनामा बनाकर शिकायत आवेदन के साथ कलेक्टर को सौंपा है। कलेक्टर को सौंपे शिकायत आवेदन में शिकायतकर्ता अजीत सिंह उईके, दीपक कुमार उईके सहित अन्य ने बताया कि प्राथमिक शाला भग्गूढाना में शिक्षाकर्मी विरेन्द्र मिश्रा विगत 22 वर्षों से कार्यरत है। उक्त कर्मचारी सही समय पर अपने कार्यालय में उपस्थित नहीं होता है, एक दो घंटे छात्रों को पढ़ाने के बाद समय से पहले शाला छोड़कर घर चले जाता है, जिसकी शिकायत पूर्व में कई बार की गई है। 
मध्यान भोजन बनाने वाली महिलाओं को नहीं मिली मजदूरी
15 सितंबर को पालक शाला पहुंचे तो शाला के खिड़की दरवाजे खराब एवं शौचालय अस्वच्छ दिखाई दिये। मध्यान्ह भोजन बनाने वाली महिलाओं से बात की गई तो उन्हें महीनों से मजदूरी नहीं मिली है। ग्रामीणों ने यह भी आरोप लगाया कि शाला में हो रही अनिमिताओं को लेकर विरेन्द्र मिश्रा से चर्चा के दौरान गुंडागर्दी पर उतारू हो गया, इसके बाद थाने में शिकायत की। ग्रामीणों का कहना है कि स्थानांतरण निति के तहत कर्मचारी तीन वर्ष से अधिक एक ही शाला में कार्यरत नहीं हो सकता है। ऐसे अनियमितता बरतने वाले कर्मचारी को तत्काल हटाये जाना छात्रों के हित में उचित रहेगा। उन्होंने कलेक्टर से आग्रह किया कि उक्त कर्मचारी को प्राथमिक शाला भग्गूढाना से तत्काल हटाये जाने अधीनस्थ अधिकारियों को निर्देश जारी किया जाए। 

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.