मोती वार्ड में होने वाली मोहल्ला गश्त झोलाछाप पुलिसिंग को लेकर लोगों के गुस्से का इजहार

बैतूल। Expression of anger of the people regarding the policing of Mohalla patrol in Moti ward चोरियां तो बैतूल में पहले भी हुई है, लेकिन इस बार मोतीवार्ड ने पुलिस की पोल खोलने का झंडा उठा लिया है। पहले पूर्व सांसद हेमंत खंडेलवाल को जाकर कहा कि भइया थाना ही बंद करा दो इसकी कोई जरूरत नहीं है। थाना होने से तो शरीफ लोगों को ही डर लगता है और अब मोतीवार्ड के लोग स्वंय रतजगा कर मोहल्ला गश्त कर पुलिस को जो आइना दिखा रहे हैं वह अपने आप में पुलिस के अधिकारियों के लिए एक सबक है। दरअसल मोतीवार्ड पूर्व सांसद हेमंत खंडेलवाल का अपना वार्ड है। यदि यहां से विरोध की आवाज उठ रही है तो इसका अंदाजा अधिकारियों को लगा लेना चाहिए। उस वार्ड के लोगों का तो साफ कहना है कि जो थानेदार में बैतूल शहर में पदस्थ किए जा रहे हैं वह हेमंत भइया की च्वाइस वाले है ही नहीं। इसलिए चोरों के हौसले बुलंद है और पुलिस अपनी ही मस्ती में लगी है। लोगों का कहना है कि यदि अब दोनों थाने के टीआई बदल भी गए तो ऐसे ही थानेदार को बैठाला जाएगा जो झोलाछाप पुलिसिंग का ही झंडा बुलंद करेंगे अब लोगों की यह मानसिकता क्यों बन रही है।
इसको लेकर पुलिस विभाग के आला अधिकारियों को गंभीरता से सोचना चाहिए और इस बात पर चिंत न करना चाहिए कि फार्महाउस कांड जैसे मामले में क्यों लोगो को इस बात पर भरोसा हो गया कि पचास पेटी जैसा हो गया है। थानेदार बदले या न बदले लेकिन कम से कम जो झोलझाप पुलिसिंग का टेक लग गया है उसका कुछ निवारन करें। वैसे मोतीवार्ड के लोग रात में गश्त कर रहे हैं उसकी गूंज बहुत दूर तक होने वाली है। बैतूल जिले में पुलिसिंग की हालत यह है कि मुलताई की भाजपा की एक भाजपा जिला पंचायत सदस्य उर्मिला गव्हाड़े गृह मंत्री के पास जाकर बताती है कि पुलिस में सुनवाई नहीं होती। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि झोलाछाप पुलिसिंग का प्रचार प्रसार बैतूल से लेकर अब राजधानी तक होने लगा है। बाकी पुलिस के अधिकारी खुद ही बहुत बुद्धिमान है। रही नेताओं की बात तो उन्हें भी समझ लेना चहिए कि चल क्या रहा है। रेत का धंधा करने वाले रेत का धंधा करे कोई दिक्कत नहीं है पर पब्लिक में जो गुस्सा फैल रहा है उस पर कुछ पानी वानी डालकर ठंडा करें। टीआई एसडीओपी, एसपी आते जाते रहेंगे। लेकिन जो सत्ता के झंडा बरदार बने बैठे हैं उन्हें इसी शहर में रहना है। वे इस बात को अच्छे से समझे कि जनता में क्यों और किसी लिए गुस्सा फैल रहा है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.