आदिम कल्चरल के कलाकारों ने वनवासी लीला में दी शानदार प्रस्तुति

बैतूल।  Artists of primitive cultural gave a great performance in Vanvasi Leela मध्यप्रदेश संस्कृति विभाग द्वारा तैयार रामकथा साहित्य में वर्णित वनवासी चरितों पर आधारित वनवासी लीलाओं भक्तिमती शबरी और निषादराज गुह्य की प्रस्तुतियां संस्कृति विभाग द्वारा जिले के जनजातीय विकासखण्डों में की जा रही है। वनवासी लीला में संस्था आदिम कल्चरल एण्ड वेल्फेयर सोसायटी द्वारा अक्षत वरवड़े के निर्देशन में निषादराज गुह्य की शानदार प्रस्तुति दी जा रही है। उल्लेखनीय है कि अक्षत मध्यप्रदेश नाट्य विद्यालय, भोपाल एवं राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय, वाराणसी केंद्र से नाट्य कला में प्रशिक्षित है एवं बैतूल में लगातार कार्य कर रहे हैं। उनकी संस्था आदिम दिसंबर से 15 दिवसीय आवासीय प्रस्तुतिपरक कार्यशाला तथा जनवरी में बैतूल के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी शहीद गंजन सिंह कोरकू की याद में तीन दिवसीय नाट्य उत्सव का आयोजन करने जा रही है। आगामी प्रस्तुति के लिए संस्था बैतूल के सुधि दर्शकों से सहयोग की अपेक्षा भी रखती है। वनवासी लीला के अंतर्गत आदिम कल्चरल एण्ड वेल्फेयर सोसायटी द्वारा ब्लॉक घोड़ाडोंगरी, शाहपुर एवं बैतूल में शानदार नाट्य कला का प्रदर्शन किया गया।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.