हुजूर कृपया यह बताइए, जिनका चयन उत्कृष्टता सेवा सम्मान के लिए हुआ है उनका पैरामीटर और चयन आधार क्या है….

बकलोल.. बात दूर तलक जाएगी

Betul Mirror News: बैतूल। एक बार फिर जिला मुख्यालय पर आयोजित गणतंत्र दिवस समारोह में उत्कृष्ट सेवाओं के आधार पर शासकीय सेवको को सम्मानित किया जाएगा। उत्कृष्ट कार्य का पैमाने क्या है? और चयन के पैरामीटर क्या है, यह तो कभी सार्वजनिक हो ही नहीं पाए, इसलिए पता ही नहीं चलता कि जिनको सम्मानित किया जा रहा है उनका चयन का किस आधार पर हुआ है।

अब ऐसी स्थिति में अक्सर यह आरोप लगता है कि यह सम्मान भी उसको मिलता है जो बॉस का मुंह लगा हो। दूसरा आरोप यह लगता है कि जो बॉस के लिए अतिरिक्त सेवा में विश्वास रखता है उसे भी सम्मानित होने का मौका मिलता है। इस तरह के आरोपों की वजह जो भी हो, लेकिन 15 अगस्त (15 August) और 26 जनवरी (26 January) पर होने वाले इस तथाकथित सम्मान के लिए जो चयन प्रक्रिया है उसमें कोई पारदर्शिता नहीं है और यह भी ज्ञात नहीं हो पाता है कि किन उत्कृष्ट सेवाओं के आधार पर यह सम्मान किया जा रहा है। पूर्व में तो यह भी देखने में आया कि एक विभाग प्रमुख ने अपने रीडर और एक लिपिक का सम्मान करा दिया था।

जबकि बताया ही गया नहीं कि कौन से उत्कृष्ट कार्य के लिए सम्मानित किया गया या इनकी सेवाओं से कौन से पब्लिक सेवाएं दुरुस्त हो गई जिसकी वजह से यह सम्मान के योग्य हो गए। देखने में यह भी आया कि स्वास्थ्य विभाग में एक आपरेटर तक का सम्मान कर दिया गया था, क्यों पता नहीं? सरकारी सिस्टम में यदि सम्मान का सिस्टम है तो इसकी प्रक्रिया होनी चाहिए। चयन का एक आधार होना चाहिए। उत्कृष्टता के लिए पैरामीटर होना चाहिए। ऐसा न तो पहले हो रहा था अब हो रहा है और न आगे होगा। इस तरह के सम्मान में वो निचले स्तर के लोग रह जाते हैं, जिन्होंने वास्तव में उत्कृष्ट कार्य किया हो।

जैसे कोरोना काल की दूसरी लहर में शवों का अंतिम संस्कार करने वाली स्वास्थ्य विभाग की टीम, जिसमें ड्राइवर, सफाई कामगार आदि कर्मचारी शामिल हैं। उन्हें अब तक उनकी विशेष सेवाओं के लिए सम्मान के योग्य नहीं माना गया है। अब ऐसा क्यों हुआ यह तो वोट लेने वाले विधायक, सांसद को भी देखना और सुनना चाहिए।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.