आवेदक के सिर में तीन फ्रैक्चर, एसपी से की शिकायत, न्याय नहीं मिलने पर आत्महत्या की दी चेतावनी

हवाई फायर कर धमकाने और बंदूक की बट से सिर पर मारने का आरोप

Betul Mirror News/बैतूल। शहर में इन दिनों महानगरों की तर्ज पर गुंडागर्दी और गोली चलाने की घटनाओं में अंकुश नहीं लग पा रहा है। बीते दिनों रेलवे स्टेशन पर गोली चलने की घटना का मामला थमा नहीं और शुक्रवार के दिन शहर के गौठाना क्षेत्र में गोली चलने की घटना सामने आई है। इसकी शिकायत पीड़ित ने एसपी से की है। शिकायतकर्ता बबलेश यादव पिता दुलीचंद यादव ने गोठाना निवासी राजा सूर्यवंशी, कलवा सूर्यवंशी, राजा सूर्यवंशी के गनर के खिलाफ एसपी से शिकायत करते हुए हवाई फायर और बंदूक से मारपीट करने का आरोप लगाया। शिकायतकर्ता ने बताया कि वह अपने दोस्त भूपेश पिता लक्ष्मीनारायण मालवी के साथ गौठाना बैतूल टाउन में राजा सूर्यवंशी से मुरम के पैसे लेने गया था।
वहां पर उसके पिता कलवा सूर्यवंशी और सुरक्षा गार्ड और राजा सूर्यवंशी ने रुपये ना देकर मारपीट कारित की। अनावेदक राजा के गनर ने हवा में फायरिंग करके डराया धमकाया। बाद में बंदूक की नाल पकड़कर उसके बट से सिर पर गंभीर रूप से मारपीट की। मारपीट से कान से भी खून निकलने लगा था। घटना के बाद उन्हें पत्नी सुनीता एवं मां ने सरकारी हास्पीटल में भर्ती कराया।
गंभीर चोट के चलते नागपुर रेफर
आवेदक के अनुसार उक्त दुर्घटना में अनावेदकगणों द्वारा गंभीर रूप से मारपीट किये जाने के कारण उन्हे सरकारी हास्पीटल बैतूल से गंभीर अवस्था में नागपुर हास्पीटल रेफर कर दिया गया। आशा हास्पीटल में भर्ती होने के बाद कामठी थाना द्वारा बयान दर्ज किये गये थे। उक्त बयान एवं तहरीर भी कामठी थाना द्वारा थाना कोतवाली बैतूल भिजवा दिया गया है। आशा हास्पीटल के डाक्टर ने सिटी स्केन रिपोर्ट में यह पाया कि घटना में आई गंभीर चोटे आने के कारण सर के पेरेटियल बोन में फेक्चर हो गया है।
मारपीट से
साधारण धारा में मामला पंजीबद्ध करने का आरोप
शिकायतकर्ता के अनुसार मारपीट की घटना के चलते वह मरणासन्न स्थिति में पहुंच गए थे। पुलिस थाना कोतवाली बैतूल द्वारा अनावेदकगणों से दुरभि संधि कर मात्र 294, 323, 506 भा.द.सं. की साधारण धारा के तहत मामला पंजीबद्ध किया गया है जबकि नागपुर हास्पीटल में जो एम.एल.सी. हुई है उसमें डाक्टरों के द्वारा सर के पेरेटियल बोन में फैक्चर बताया है जिससे मरणासन्न अवस्था में आईसीयू में रहना पड़ा है जिसके दस्तावेज भी आवेदक के पास उपलब्ध है।
मेडिकल दस्तावेज पुलिस को देने के बाद भी अनावेदकगणों के विरूद्ध भारतीय दंड सहिता के अन्तर्गत उचित धारा में प्रकरण पंजीबद्ध नही किया गया। आवेदक ने एसपी से आग्रह किया कि इस गंभीर घटना की उच्चस्तरीय जांच कर दोषियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाए साथ ही आवेदक ने शिकायत आवेदन के माध्यम से चेतावनी दी है कि उन्हें न्याय नहीं मिला तो उनके पास आत्महत्या करने के अलावा कोई विकल्प नहीं रहेगा।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.