अनुसूचित जाति वर्ग के व्यक्ति को प्रताड़ित करने के मामले में कार्रवाई की मांग

चिचोली तहसीलदार के खिलाफ भीम सेना ने खोला मोर्चा, पीड़ित परिवार के साथ दिया धरना

पीड़ित परिवार के साथ मुख्यमंत्री के नाम पुलिस अधीक्षक को सौंपा ज्ञापन

Betul Mirror News/बैतूल। तहसीलदार चिचोली एवं उनके अमले के द्वारा कानूनी कार्यवाही की आड़ में अनुसुचित जाति वर्ग के व्यक्ति को प्रताड़ित करने के मामले में भीम सेना संगठन ने तहसीलदार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। बुधवार को भीम सेना के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं ने पीड़ित एवं उसके परिवार के साथ एसपी कार्यालय के सामने धरना प्रदर्शन किया। इसके बाद।एसपी कार्यालय पहुंचकर तहसीलदार के खिलाफ उचित कार्यवाही करने की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा। भीम सेना संगठन के प्रदेश प्रभारी पंकज अतुलकर ने बताया कि 31 मई को दोपहर 3 से 4 बजे के मध्य चिचोली तहसीलदार रोहित विश्वकर्मा एवं उनके अमले में शामिल नगर परिषद चिचोली के कर्मचारियों द्वारा अनावश्यक रूप से अनुसूचित जाति वर्ग के व्यक्ति श्यामकिशोर शेषकर पिता कालूराम शेषकर के खसरा नम्बर 103 की भूमि का सीमांकन करने लगे तथा खसरा नम्बर 103 की भूमि में लगे फलदार वृक्षो एवं बागुड को तहस नहस करने लगे जिसको रोकने के लिए भूमिस्वामी के पुत्र अश्विन पिता श्यामकिशोर शेषकर द्वारा मना किया गया।

तो तहसीलदार चिचोली द्वारा भूमिस्वामी के पुत्र के साथ मारपीट एवं गाली गलौच कर जातिसूचक शब्दों का प्रयोग किया गया। घटना की जानकारी के सम्बंध में थाना चिचोली में पुलिस प्राथमिकी दर्ज कराई थी। इसके बावजूद आज दिनांक तक थाना चिचोली द्वारा भी कोई कार्यवाही प्रस्तावित नही की गई। पीड़ित एवं पीड़ित के परिवार पर झूठी कार्रवाई की गई। इस मामले में भीम सेना संगठन ने उच्च स्तरीय अधिकारियों की टीम गठित कर उचित जांच कर तहसीलदार के विरूद्ध अनुसूचित जनजाति/जाति अधिनियम के अंतर्गत कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है। भीमसेना ने चेतावनी दी है कि 24 घंटे में न्याय नही मिलने की दशा में धरना प्रदर्शन के लिए बाध्य होंगे।

न्याय नहीं मिलने तक करेंगे धरना प्रदर्शन
पीड़ित युवक अश्विन पिता श्याम किशोर शेषकर ने चिचोली तहसीलदार के खिलाफ मारपीट करने सहित जाति सूचक अपशब्द कहने के आरोप लगाए हैं। उन्होंने बताया कि 31 मई को तहसीलदार द्वारा बिना सूचना दिए घर आने पर विरोध किया तो उनके साथ मारपीट की और पद का दुरुपयोग करते हुए एफ आई आर दर्ज करवा दी।

एफआईआर खत्म करने और तहसीलदार रोहित विश्वकर्मा पर अनुसूचित जाति जनजाति उत्पीड़न निवारण अधिनियम के साथ-साथ विभिन्न धाराओं में एफ आई आर दर्ज करने को लेकर वे धरना प्रदर्शन कर रहे है। न्याय नहीं मिलने तक वे लगातार धरना प्रदर्शन करते रहेंगे।
कानूनी कार्यवाही की आड़ किया जा रहा प्रताड़ित 
पीड़ित के पिता सेवानिवृत्त शिक्षक श्यामकिशोर पिता कालूराम शेषकर ने तहसीलदार चिचोली एवं उनके अमले के द्वारा कानूनी कार्यवाही की आड़ में अनुसूचित वर्ग के व्यक्ति को प्रताड़ित करना, मारपीट करने के आरोप लगाए। उन्होंने बताया कि तहसीलदार चिचोली रोहित विश्वकर्मा नगरपालिका के अमले जिसका मुखिया संजय वाल्मीक, दीपक गितेश, अन्य 8-10 लोगों को साथ में लेकर दिनांक 31 मई को दोपहर 3-4 बजे खसरा नं. 103 पर आये तथा वहां बागुड में लगे पौधे, आम, जामुन, गुलाब, मुगना के पौधे काटने लगे और रोड़ के तरफ फेंक दिये। घटना का वीडियो बनाने पर उनके पुत्र के साथ मारपीट की गई। शिकायतकर्ता का आरोप है कि मौके पर मौजूद पटवारी व अन्य लोगों ने गाली गलौज करते हुए उनके पुत्र के साथ सामूहिक रूप से मारपीट की।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.